• 私の名前はDnyanです
  • Mi nombre es Dnyan
  • मेरा नाम ज्ञान है
  • 내 이름은 Dnyan이다.
  • Ich heiße Dnyan
  • ฉันชื่อ Dnyan
  • मेरा नाम ज्ञान है

ज्ञानेश्वर येवतकर साइकिल से एक मिशन पूरा करने निकले हैं. उनके पास बस तम्बू, साइकिल और 'Google अनुवाद' है. वह दुनिया भर के लाेगाें से मिलने और उनसे कुछ सीखने के लिए चार साल की यात्रा पर निकले हैं.

पिछले साल, अरबों लोगों ने 100 से ज़्यादा भाषाओं में मेन्यू पढ़ने, रास्ता पूछने या सड़क पर मौजूद संकेतों को समझने के लिए, 'Google अनुवाद' का इस्तेमाल किया. असल में, 'अनुवाद' एक ऐसा टूल है जिससे लोग किसी भी भाषा में बातचीत कर सकते हैं और आसानी से दुनिया घूम सकते हैं. ज्ञान येवतकर के लिए 'अनुवाद' बेहद ज़रूरी है: इसकी मदद से ही वह दुनिया भर के उन लाेगाें से बात कर पाए जाे उन्हें चार साल की साइकिल यात्रा में मिले.

70,000 किलोमीटर

हर सुबह, ज्ञान येवतकर वही करते हैं जाे लाखों लोग करते हैं: वह साइकिल की सवारी के लिए तैयार होते हैं. फ़र्क क्या है? उनकी मंज़िल कभी एक जैसी नहीं होती. कभी वह दक्षिण कोरिया का एक बौद्ध मंदिर हाे सकता है या टोक्यो का एक हॉस्टल या हवाना के बाहरी इलाके में एक बेसबॉल स्टेडियम. पिछले दो सालों से, वह एक देश से दूसरे देश की यात्रा कर रहे हैं, छोटे शहरों से लेकर बड़े शहरों तक साइकिल से जा रहे हैं. उनका बस एक मकसद है: वह गांधी के नक्शेकदम पर चलना चाहते हैं, शांति, प्रेम और दया का संदेश फैलाना चाहते हैं. ऐसा करने के लिए, वह ज़्यादा से ज़्यादा लोगों से मिलना चाहते हैं, उनसे सीखना चाहते हैं और दुनिया के बारे में जो कुछ जानते हैं उसे शेयर करना चाहते हैं.

अपनी साइकिल चलाते हुए ज्ञान

75 देश

इस सफ़र में ज्ञान खुद को ऐसे छात्र के तौर पर देखते हैं जो कम वक्त में दुनिया को पढ़ने निकला है. "यह एक बहुत बड़ा स्कूल है," यह बात वह उन सभी शहरों और कस्बों के बारे में कहते हैं जिनसे वह गुज़रे.

"इस यात्रा में सिर्फ़ घूमना शामिल नहीं है. इसके दौरान मैं लोगों से मिलता हूं. जब मैं उनके साथ समय बिताता हूं, मैं उनसे सीखता हूं, मैं उन्हें समझता हूं और वे मुझे समझ पाते हैं." किसी विदेशी जगह एक अजनबी से बातचीत करने में डर लग सकता है, लेकिन इस मामले में उनकी साइकिल काम आई. “साइकिल लोगों से जुड़ने का मेरा ज़रिया है. लोग साइकिल देखते हैं और मुझे रोकते हैं, वे मेरे साथ बात करना चाहते हैं.” ज्ञान जितना ज़्यादा घूमते हैं, उतना ही उन्हें लोगों की अच्छाई देखने का मौका मिलता है. उनके सफ़र के दौरान अकसर लोग उनकी मदद करने की कोशिश करते हैं.

थाइलैंड में जब उन्हें कुत्ते ने काटा था तब वहां के एक परिवार ने उनकी देखभाल की थी. क्यूबा के एक शख्स ने अपना काम छाेड़कर, ज्ञान काे अपना गांव घुमाया और अपने परिवार से मिलाया. वह म्यांमार में एक अमेरिकन व्यक्ति से मिले जिसने बाद में उन्हें अपने इंडियाना वाले घर बुलाया. पहले सब अजनबी थे; अब सब दोस्त हैं.

2018 में, रूस पर विश्व कप का खुमार था. किसी भी सड़क पर दर्जनों भाषा बाेलने वाले लाेग मौजूद थे. उस समय, 'Google अनुवाद' मोबाइल ऐप्लिकेशन का इस्तेमाल उम्मीद से दोगुना हाे रहा था. इस शानदार खेल की वजह से इतने सारे लाेग एक साथ आए और 'Google अनुवाद' जैसे बातचीत के अनाेखे तरीके ने लोगों को एक-दूसरे काे जानने में मदद की.

“भले ही मैं आपकी भाषा नहीं जानता, लेकिन मैं यह जानना चाहूंगा कि आप कौन हैं.”

ज्ञान

ज्ञान

50 से ज़्यादा भाषाएं

ज्ञान कहते हैं कि जब भाषा समझने में मुश्किल आती है तब "मेरे पास दो विकल्प हाेते हैं. एक वह भाषा जो दिल से निकलती है और इसे लोग सिर्फ़ एक-दूसरे को देखकर समझ लेते हैं. मेरे पास दूसरी भाषा 'Google अनुवाद' है." ज्ञान अपनी यात्रा काे इस बात से नहीं मापते कि उन्हाेंने कितनी दूरी तय की या कितनी जगहें घूमीं. इसके बजाय, वह यह देखते हैं कि यात्रा के दौरान कितने लाेगाें ने उनका दिल छुआ.

2018 में, 300 ख़रब से ज़्यादा वाक्यों का अनुवाद किया गया. इनमें अंग्रेज़ी से स्पैनिश और अंग्रेज़ी से चीनी अनुवाद सबसे ज़्यादा हुए.

ज्ञान के कुछ नए दोस्तों से मिलिए

'Google अनुवाद' पर ज़्यादा अनुवाद किए जाने वाले दो सबसे आम वाक्यांश "आप कैसे हैं" और "धन्यवाद" हैं - इन्हीं दाे वाक्यांशाें का इस्तेमाल करके ज्ञान नए लोगों से मिले और उनसे दूसरी चीज़ें सीखकर दुनिया भर में घूमे.

जिन लाेगाें ने ज्ञान के दिल पर छाप छोड़ी उनसे मिलने के लिए नीचे तक स्क्राेल करें.

ज्ञान के कुछ नए दोस्तों से मिलिए

ज्ञान ने अब तक 16 देशों की यात्रा की है. इस दौरान वह कुछ ऐसे लोगों से मिले जिन्हाेंने उन पर गहरा असर डाला है. उनमें से कुछ से मिलने के लिए हॉटस्पॉट पर क्लिक करें.

  • भारत
    • मध्य भारत
  • म्यांमार
    • पा-हान
  • थाइलैंड
    • सुरत थानी
  • ताइवान
    • ताइचुंग
  • जापान
    • हिरोशिमा
  • दक्षिण कोरिया
    • बुसान
    • देजॉन
  • अमेरिका
    • इंडियाना
    • न्यू यॉर्क
    • न्यू यॉर्क
  • क्यूबा
    • हवाना
    • कैटलिना
  • मेक्सिको
    • कहीं काेई जगह
01 / 13

इतने दिन यात्रा की

इतने किलाेमीटर यात्रा की

वापस

ज्ञान

मध्य भारत

भाषाएं: हिंदी

“मुझे लगता है कि मैं इस दुनिया में करीब 80 साल जिऊंगा. उन 80 सालों तक मैं खुशी से जीना चाहता हूं और ज़िंदगी के इस सफ़र का मज़ा लेना चाहता हूं. इसलिए, तीन साल पहले मैंने फैसला किया कि मैं साइकिल से दुनिया घूमूंगा. मैं नए अनुभवों के लिए तैयार हूं. मैं नए लोगों से मिलना चाहता हूं.”
“मुझे लगता है कि मैं इस दुनिया में करीब 80 साल जिऊंगा. उन 80 सालों तक मैं खुशी से जीना चाहता हूं और ज़िंदगी के इस सफ़र का मज़ा लेना चाहता हूं. इसलिए, तीन साल पहले मैंने फैसला किया कि मैं साइकिल से दुनिया घूमूंगा. मैं नए अनुभवों के लिए तैयार हूं. मैं नए लोगों से मिलना चाहता हूं.”

ज्ञान

पनीडा

सुरत थानी, थाइलैंड

भाषाएं: थाई, हिंदी

अचानक कुत्तों ने हमला कर दिया. ज्ञान के पैर से खून बहने लगा और दर्द भी हाेने लगा. स्थानीय अस्पतालों ने बीमा के बिना उनका इलाज करने से मना कर दिया, इसलिए वह साइकिल चलाते रहे. आठ दिनों तक वह साइकिल चलाते रहे. वह एक छोटे शहर में पहुंचे और वहां एक स्कूल में बोलते समय दर्द बहुत बढ़ गया. वह बेहाेश हाे गए. पनीडा नाम की एक शिक्षक उन्हें अंदर ले गईं और इलाज करवाने में मदद की. यहां तक कि YouTube से यह भी सीखा कि भारतीय खाना कैसे बनता है. उनकी वजह से ज्ञान की यात्रा जारी रही.

“उन्हाेंने मेरे लिए जाे कुछ भी किया, उसका शुक्रिया अदा करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं. यही असली प्यार हाेता है.”
“उन्हाेंने मेरे लिए जाे कुछ भी किया, उसका शुक्रिया अदा करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं. यही असली प्यार हाेता है.”

ज्ञान

ज्ञान

ताइचुंग, ताइवान

भाषाएं: ताइवानी, हिंदी

"यह एक छोटी सी दुनिया है" यह बात ज्ञान के लिए ताइचुंग में सही साबित हुई. पूरा एक दिन साइकल चलाने के बाद, ज्ञान रात के खाने के लिए एक भारतीय रेस्टाेरेंट में रुके. रेस्टाेरेंट के मालिक के साथ बातचीत करने के बाद, उन्होंने महसूस किया कि वह कुछ हफ़्ते पहले पूर्वी ताइवान में उस आदमी के भाई के साथ रहे थे. उस व्यक्ति के भाई ने ज्ञान को इस रेस्टाेरेंट का पता भी दिया था, लेकिन ज्ञान ने उसे खो दिया था. लेकिन फिर भी वह उसी रेस्टाेरेंट में पहुंच गए.

“उसने पहले मेरे बारे में सुना था और मैंने उसके बारे में, लेकिन आमने-सामने की मुलाकात अलग ही होती है.”
“उसने पहले मेरे बारे में सुना था और मैंने उसके बारे में, लेकिन आमने-सामने की मुलाकात अलग ही होती है.”

ज्ञान

एक रेस्टाेरेंट में सेल्फ़ी के लिए पोज देते हुए ज्ञान और उनके नए दोस्त ज्ञान. सेल्फ़ी के लिए मुस्कुराते ज्ञान और उनके दोस्त ज्ञान, रवि.

ज्ञान

हिरोशिमा, जापान

भाषाएं: हिंदी

“पिछले कुछ महीने मुश्किल भरे रहे हैं. लेकिन फिर, मैंने अपनी यात्रा का शुरुआती दौर याद किया. पैसे के बिना, मैंने दो साल पूर्वी एशिया की यात्रा की. मुझे वे दोस्त और साथी याद हैं जिन्होंने यात्रा के दौरान चावल और सब्ज़ियां दीं या अपने घर में जगह दी. इससे मुझे आगे बढ़ने की हिम्मत मिली.”
“पिछले कुछ महीने मुश्किल भरे रहे हैं. लेकिन फिर, मैंने अपनी यात्रा का शुरुआती दौर याद किया. पैसे के बिना, मैंने दो साल पूर्वी एशिया की यात्रा की. मुझे वे दोस्त और साथी याद हैं जिन्होंने यात्रा के दौरान चावल और सब्ज़ियां दीं या अपने घर में जगह दी. इससे मुझे आगे बढ़ने की हिम्मत मिली.”

ज्ञान

जापान में एक पहाड़. जापान में हाइक के दौरान अपने हाथ फैलाकर छलांग लगाते ज्ञान.

वेनेरेबल शिम सैन

बुसान, दक्षिण कोरिया

भाषाएं: काेरियन, अंग्रेज़ी, हिंदी

दक्षिण कोरिया के दूसरे सबसे बड़े शहर के एक बौद्ध मंदिर में ज्ञान का अभिवादन किया गया. यह मंदिर ज्ञान के लिए काफ़ी खास था जिसके पीछे की एक बड़ी वजह थी: दक्षिण कोरिया में मौजूद गांधी की इकलौती मूर्ति. मंदिर आने के पीछे ज्ञान के दाे मकसद थे: वह इस यात्रा के लिए प्रेरित करने वाले व्यक्ति का शुक्रिया अदा करना चाहते थे. साथ ही, अपनी यात्रा काे जारी रखने के लिए साधु से आशीर्वाद भी पाना चाहते थे. साधु काफ़ी खुश हुए.

“이곳에서 여행을 시작하는 당신을 환영하며, 여행의 시작을 축복해 드리고 싶습니다.”
“आप यहां से अपनी यात्रा शुरू कर रहे हैं, इस बात से हम बहुत खुश हैं और हम इसकी शुरुआत का जश्न मनाना चाहेंगे.”

वेन. शिम सैन

थॉमस

इंडियाना, अमेरिका

भाषाएं: अंग्रेज़ी, हिंदी

किसी अजनबी की मदद करने के लिए आप कितनी दूर ड्राइव करेंगे? बुरी तरह से गिरने के बाद, ज्ञान खून से लथपथ और बेहाेशी की हालत में अपनी पीठ के बल लेटे हुए थे. शुक्र था कि उनका फोन अब भी काम कर रहा था. उसने थॉमस नाम के व्यक्ति को एक कॉल किया जो उस शाम के लिए उनके मेज़बान थे. ज्ञान काे वहां से अपने घर लाने के लिए थॉमस ने एक घंटे से ज़्यादा लंबा ड्राइव किया. इसके बाद, थॉमस की पत्नी ने ज्ञान के घावों पर मरहम पट्टी की. भारतीय खाना खाने के बाद, ट्रैंपाेलीन पर कूदने की बारी आई.

“It’s nice to see someone in this crazy world spreading the message of peace and friendship. We will forever be friends.”
“इस अजीबाेगरीब दुनिया में किसी को शांति और दोस्ती का संदेश फैलाते हुए देखना अच्छा लगता है. हम हमेशा के लिए दोस्त रहेंगे.”

थॉमस

मॉयिंग

न्यूयॉर्क, अमेरिका

भाषाएं: अंग्रेज़ी, मंदारिन, हिंदी

चीनी शिक्षक मॉयिंग करीब 20 सालों से न्यूयॉर्क में हैं. अब वह दुनिया भर के यात्रियों काे अपने घर में ठहराती हैं.

“我喜欢了解不同的文化。在我给其他国家/地区的人们教授汉语时,他们也教给了我他们自己的文化。”
“मुझे दूसरी संस्कृतियों के बारे में सीखना पसंद है. जब मैं दूसरे देशों के लोगों को पढ़ाती हूं, तो उनसे उनकी संस्कृति भी सीखती हूं.”

मॉयिंग

लैरी द बर्डमैन

न्यूयॉर्क, अमेरिका

भाषाएं: अंग्रेज़ी, हिंदी

न्यूयॉर्क शहर के वॉशिंगटन स्क्वायर पार्क में, ज्ञान उड़ते हुए कबूतरों को देखते ही रह गए. कबूतर जिनके आस-पास मंडरा रहे थे, वह थे लैरी द बर्डमैन. ऐसा लग रहा था, जैसे उस पार्क में रहने वाले कबूतरों से उनका कोई आध्यात्मिक रिश्ता है.

“There are some men who respect every creature in the world. If you love all the creatures on this planet, they love you, they take care of you.”
“दुनिया में कुछ ऐसे लाेग भी हैं जो सभी जीवों का सम्मान करते हैं. अगर आप धरती के सभी जीवों से प्यार करेंगे, तो वे भी आपसे प्यार करेंगे, आपका ख्याल रखेंगे.”

ज्ञान

अमालिया

हवाना, क्यूबा

भाषाएं: स्पैनिश, अंग्रेज़ी, हिंदी

क्यूबा पहुंचकर ज्ञान उत्साहित थे क्याेंकि वह 18 महीने बाद एक दाेस्त से फिर मिलने वाले थे. ज्ञान की मुलाकात हवाना की निवासी अमालिया से तब हुई थी जब दोनों इंडोनेशिया में थे. जब उन्होंने अमालिया काे अपनी क्यूबा की यात्रा के बारे में बताया, तो अमलिया ने उन्हें अपने घर में रुकने की पेशकश की. वह फूल और एक मुस्कान के साथ अमालिया से मिले. अमालिया के घर जाकर उनकी मां के हाथ का खाना खाने से पहले, दाेनाें पुराने हवाना में घूमे.

“आपने मुझे अपने घर बुलाया. आपकी मां ने बेहद लज़ीज़ खाना बनाया. उन्हाेंने मुझे प्यार दिया, आपने मुझे प्यार दिया, मेरा ख़्याल रखा - यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है.”
“आपने मुझे अपने घर बुलाया. आपकी मां ने बेहद लज़ीज़ खाना बनाया. उन्हाेंने मुझे प्यार दिया, आपने मुझे प्यार दिया, मेरा ख़्याल रखा - यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है.”

ज्ञान

कैमरे के लिए मुस्कुरातीं अमालिया और उनकी मां. हवाना में घूमते अमालिया और ज्ञान.

यूंडी

कैटलिना, क्यूबा

भाषाएं: स्पैनिश, अंग्रेज़ी, हिंदी

हवाना के बाहर, ज्ञान की साइकिल के गियर आवाज़ कर रहे थे. वह साइकिल मरम्मत की दुकान पर रुके जहां उनकी मुलाकात यूंडी से हुई. बातचीत के बाद, यूंडी ने ज्ञान काे अपना गांव दिखाने की पेशकश की. यूंडी के घर जाने और उनके पड़ोसियों से मिलने से पहले, वे दाेनाें एक स्कूल, फलाें की दुकान (जहां यूंडी ने ज्ञान के लिए आम का रस खरीदा) और बेसबॉल के मैदान पर रुके.

“उन्होंने जितने प्यार से मुझसे बात की और मुझे आस-पास की जगह घुमाईं, उससे मुझे ऐसा लगा कि मैं उनके परिवार का हिस्सा हूं.”
“उन्होंने जितने प्यार से मुझसे बात की और मुझे आस-पास की जगह घुमाईं, उससे मुझे ऐसा लगा कि मैं उनके परिवार का हिस्सा हूं.”

ज्ञान

ज्ञान

मेक्सिको में कहीं

भाषा: हिंदी

“जब मैं छोटा था, तो मेरा सपना था कि मैं भी दुनिया के लिए कुछ करूं. अगर मैं घर पर रहकर ही ऐसा कुछ काम करता, तो कुछ बड़ा नहीं कर पाता. मुझे लगता है कि इस यात्रा पर जाकर, मैंने बहुत सारे लोगों का ध्यान खींचा है. मैंने दाे साल यात्रा कर ली है और अभी दाे साल की यात्रा और बाकी है. मैं आगे और नए लाेगाें से मिलने के लिए उत्साहित हूं.”
“जब मैं छोटा था, तो मेरा सपना था कि मैं भी दुनिया के लिए कुछ करूं. अगर मैं घर पर रहकर ही ऐसा कुछ काम करता, तो कुछ बड़ा नहीं कर पाता. मुझे लगता है कि इस यात्रा पर जाकर, मैंने बहुत सारे लोगों का ध्यान खींचा है. मैंने दाे साल यात्रा कर ली है और अभी दाे साल की यात्रा और बाकी है. मैं आगे और नए लाेगाें से मिलने के लिए उत्साहित हूं.”

ज्ञान

ज्ञान यह समझ चुके हैं कि वह जब 2020 के किसी महीने - या शायद 2021 में घर लौटेंगे, तो पता नहीं हालात कैसे होंगे. जिस तरह की यात्रा वह कर रहे हैं, किसी भी मोड़ पर कोई भी परेशानी आ सकती है. इसलिए, वह यात्रा के अनुभवों और इनसे मिली सीखों का इस्तेमाल करना चाहते हैं. वह बेघर बच्चों के लिए एक स्कूल खोलना चाहते हैं ताकि उन्हें अच्छी शिक्षा मिल सके. हालांकि, इससे पहले उन्हें अब भी बहुत साइकिल चलानी है. वह आगे के सफर को लेकर उत्साहित हैं. उन्हें अभी दक्षिण अमेरिका, अफ़्रीका और मध्य पूर्व की यात्रा करनी है. इतने सारे लोगाें से मिलना है. इतना कुछ सीखना है. शायद, किसी से उनकी सिर्फ़ अच्छी बातचीत हाे. शायद, वह एक नया दोस्त बनाएं. हालांकि, वह यह तय नहीं कर सकते कि किसी से बातचीत कैसे खत्म हाेगी, लेकिन वह यह तय कर सकते हैं कि यह कैसे शुरू होगी - एक शब्द के साथ:

नमस्ते.

दूसरों से जुड़ने के ज्ञान के मिशन में शामिल हाें. उनकी कहानी अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.

किसी तकनीक को बनाने का सबसे दिलचस्प पहलू यह देखना है कि दुनिया उसे किस तरह इस्तेमाल करती है:

शीर्ष पर वापस जाएं