दाे मिनट में पढ़ें

इस कलाकार ने Google Earth की मदद से किस तरह शादी का शानदार प्रस्ताव रखा

Google Earth हमारे आस-पास की जगहें खोजने और उनके बारे में जानने का एक टूल है. हालांकि, यासुशी ताकाहाशी जैसे कुछ ज़िंदादिल कलाकारों के लिए यह एक कैनवस है जिसमें उनके कदम रंग भरते हैं.

2008 से ही, टोक्यो के रहने वाले यासुशी "यासन" ताकाहाशी की इच्छा थी कि वे अपनी प्रेमिका, नात्सुकी काे शादी के लिए प्रपोज़ करें. बस उन्हें यह नहीं पता था कि वे यह कैसे करेंगे.

फिर एक दिन, उन्हें जीपीएस आर्ट के बारे में पता चला: पहले से तय किए गए रास्ते पर जीपीएस डिवाइस के साथ यात्रा करके, बड़े पैमाने पर डिजिटल ड्राइंग बनाने का काम. जब इस रास्ते को Google Earth जैसे मैपिंग टूल पर अपलोड किया जाता है, तो एक आकार बन जाता है.

यासन ने सोचा: कैसा हो अगर वह जीपीएस की मदद से ऐसा रास्ता तय करके जापान घूमे, जिससे मैप पर "मैरी मी" लिखा बन जाए और वह Google Earth पर अपनी इस पूरी यात्रा को शादी के प्रस्ताव के रूप में पेश करे? उन्होंने नौकरी छोड़ दी और जून में होकैडो द्वीप से कागोशिमा तट की उस यात्रा की शुरुआत की जिसकी योजना बहुत ध्यान से बनाई गई थी.

करीब छह महीने में 7163.19 कि.मी. की दूरी तय करने के बाद, उनकी "मैरी मी" ड्रॉइंग पूरी हो गई. इस कारनामे के बाद, इतिहास की सबसे बड़ी जीपीएस ड्रॉइंग के लिए उनका नाम गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में लिखा गया.

अब यासन तेज़ी से बढ़ रहे उन लोगों में से एक हैं, जो Google Earth और 'Google स्ट्रीट व्यू' जैसे टूल के ज़रिए जीपीएस आर्ट बनाते हैं.

इसकी खास बात यह है कि इसमें कला और यात्रा का अनूठा संगम है. दौड़ने और साइकिल चलाने वाले लोग इसे अपने रास्ताें को बदलने के लिए प्रेरणा मानते हैं. वहीं दूसरे लाेग कबूतर और डायनासोर से लेकर काल्पनिक किरदारों तक, किसी भी चीज़ की ड्रॉइंग बनाने की रचनात्मक चुनौती का मज़ा लेते हैं.

ऐसी यात्राओं की सिर्फ़ यही सीमा होती है कि लोग क्या सपना देख सकते हैं – और उनके पैर उन्हें कहां ले जा सकते हैं. दुनिया भर के दूसरे कलाकारों की बनाई गई जीपीएस आर्ट गैलरी देखें.

व्यवसाय का चिह्न
दुकान स्कूली बच्चों की यात्रा
कक्षा चॉकबोर्ड

दूसरे जीपीएस और Google Earth कलाकारों की बनाई गई इमेज, बाएं से घड़ी की दिशा में: माइक निक्सफ़ोर्ड, "योर अर्थ ट्रांसफ़ॉर्म्स"; यासन ताकाहाशी, "वाइल्ड बाेर 2019" ; जेनी ओडेल, "सैटेलाइट कलेक्शंस" ; पॉल बॉर्के, "स्पेन"; जेरेमी वुड," मेरिडियन."

किसी तकनीक को बनाने का सबसे दिलचस्प पहलू यह देखना है कि दुनिया उसे किस तरह इस्तेमाल करती है:

शीर्ष पर वापस जाएं